dr-siddharth-tandon-speaking-on-World-Vitiligo-Day-e1561625789818.jpg

कौशांबी के यशोदा सुपरस्पेशिलिटी अस्पताल में मंगलवार को विश्व विटिलिगो दिवस पर विशेष चर्चा का आयोजन किया गया। इस मौके पर मौजूद त्वचा रोग विशेषज्ञों ने बताया कि विटिलिगो एक प्रकार का त्वचा रोग है। इस रोग से अकेले भारत में लगभग 8.8 प्रतिशत तक लोग जूझ रहे हैं। डॉ. सिद्धार्थ टंडन ने बताया कि विटिलिगो को ल्यूकोडर्मा के नाम से जाना जाता है। त्वचा पर कई सफेद धब्बे बनने शुरू हो जाते हैं और इस स्थिति को सफेद कुष्ठ रोग भी कहा जाता है। शरीर के जो हिस्से सूरज की रोशनी के सीधे संपर्क में आते हैं, जैसे चेहरे-हाथ और कलाई के क्षेत्र इससे ज्यादा प्रभावित होते है। मौके पर मौजूद त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ. गरिमा गुप्ता ने बताया कि सफेद दाग की बीमारी छुआछूत की बीमारी नहीं है। इसे लेकर समाज में फैली भ्रांतियों को दूर करने की आवश्यकता है। विटिलिगो के इलाज के लिए, टोपिकल, विभिन्न सर्जरी, लेजर चिकित्सा एवं अन्य वैकल्पिक उपचार उपलब्ध हैं। लोगों में इसके लिए जागरूकता लाना ज्यादा जरूरी है। इस दौरान स्किन डिपार्टमेंट के मरीजों ने भी इस चर्चा में हिस्सा लिया और अपनी समस्या से जुड़े सवाल डॉक्टरों से पूछे।


dr-siddharth-tandon-speaking-on-World-Vitiligo-Day-e1561625789818.jpg

साहिबाबाद। कौशांबी स्थित यशोदा अस्पताल में विश्व विटिलिगो दिवस के अवसर पर मंगलवार को स्कीन संबंधित बीमारियों को लेकर चर्चा हुई। जिसमें त्वचा रोग विशेषज्ञों ने विटिलिगो बीमारी के बारे में बताया। त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ. सिद्धार्थ टंडन ने बताया कि विटिलिगो एक प्रकार का त्वचा रोग है। इसे ल्यूकोडर्मा के नाम से जाना जाता है। इस बीमारी में व्यक्ति के शरीर पर सफेद धब्बे बन जाते हैं। इसको सफेद कुष्ठ रोग कहा जाता है। यह शरीर के उन हिस्सों में होता है जो कि सूरज की रोशनी के सीधे संपर्क में आते हैं। विशेषज्ञ डॉ. गरिमा गुप्ता ने बताया कि सफेद दाग की बीमारी छुआछूत की बीमारी नहीं है। वहीं उन्होंने बताया कि इसे लेकर समाज में फैली भ्रांतियों को दूर करने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि विटिलिगो के इलाज के लिए टोपिकल, विभिन्न सर्जरी, लेजर चिकित्सा एवं अन्य वैकल्पिक उपचार उपलब्ध हैं।


mumbai-3-780x405.jpg

War against Coronavirus pandemic warrants Second World War like initiatives

India cannot afford to keep its feet off the pedal in the fight against the Coronavirus pandemic which is now taking a dangerous turn in the country of over 130 crores. Certainly, given its population size, infected cases are although far less but there is no scope to take any chance with the unsparing coronavirus. It has taken more than 436,000 lives and infected over eight million people globally.

Even in the most advanced countries like The United States, the havoc let loose by the pandemic is devastating. despite the plethora of resources and availability of highly advanced gadgets, it has lost 116,000 lives including about 31,000 lives in the most advanced and resourceful state of New York.

As India continues its Fight against COVID-19, medical personnel are at the front battling the pandemic and providing services to prevent the spread. India is short of the prescribed strength of nurses & doctors.

The wartime situation has created an extraordinary situation that longs for the extraordinary steps to face the challenge effectively without compromising of human lives and further derailment of the country’s economy during the current economic recession.

Being in thick of the medical issue, I personally feel that the central government and state governments have started building on war footing COVID19 designated hospitals to tackle the ever-increasing number of cases but tragically, where are the professional staff to handle the crisis?

India, till date, stands at the fourth place among the first ten worst-affected countries with more than 3.43 lakh cases and about 10,000 deaths. But, because of its population size and social structure, it cannot be ruled out that the country may slip into a community transmission mode. There is no community transmission so far as per the government records but we have to brace up for everything.

We will be able to build up hospitals on war scale and rope in the private hospitals but the real challenge lies in seeking the services of doctors during this highly contagious pandemic.

During the last three months, the available medical hands and nurses look worn out and fully fatigued with a very high degree of physical and mental strain.

I feel it is the high time that the top-level message should be to avail services of MBBS Students of the fourth year of five years courses. Their services must be availed with a provision that their year will not be wasted. And it will be counted as the meritorious services year for the nation and humanity.

The Rule should apply to all the government and private medical colleges to meet the shortfall of doctors during the current crisis which is staring at us dangerously.

The fourth-year medical students should be brought to work and given a year gap with appreciation and honor deemed pass out in a scheduled year. This will fulfill the shortage of Doctors in a big way.

More important are lakhs of MBBS doctors preparing for PG they should also be brought to the mainstream of working in the Government and Private Hospitals designated for COVID19. The government must announce the deployment of all these medical professionals who after doing their requisite degree course are pursuing masters in medicines and surgery to advance their careers

These doctors, if they join the national task, should be also be given additional weightage on their courses besides a certificate of honor.

Rules should also be tweaked in a fashion that they can get lifetime advantage of these certificates in future employment. It must be done to offer them incentives to join the wartime situation with full enthusiasm. No war can be won without the warlike zeal and spirits. This young lot will be able to abridge the ever-increasing gap in the availability of medical hands in a typical war-type scenario. Moreover, being age on their side, their immunity level, and stress-bearing capacity is many times higher vis-a-vis already fatigued medical staff.

According to sources, a little over 11.57 lakh allopathic doctors are registered with the state medical councils and the Medical Council of India as on January 31 and assuming 80 percent availability, it is estimated that around 9.26 lakh doctors may be actually available for active service. Besides, there are 7.88 lakh Ayurveda, Unani, and Homeopathy (AUH) doctors in the country.

Days ahead of the lockdown, the government told the parliament that 1.2 million Allopathic doctors were registered in India on Sep 30, 2019. Assuming 80% availability, 961,000 may be available for service, giving a doctor-population ratio of 1:1,404 against the WHO prescribed ratio of 1:1,000.

Not only this, As per Indian Nursing Council (INC) records, there are around 8, 85,383 Auxiliary Nurse Midwives (ANM), 21, 29,820 Registered Nurses and Registered Midwives (RN&RM) and 56,644 Lady Health Visitors (LHV) in the Country.

The Nurse patient ratio in the Country at present is 1.7 nurses per 1000 population. However, the nurse-patient ratio varies from State to State, District to District, and Institution to Institution. The problem is more of skewed distribution, with a dense concentration of workforce in some areas and lesser concentration in other areas.

During the current crisis, shortage of trained nurses also emerged in a big way as at some places, these font line warriors also lost their lives and faced shortcoming of various sorts including PPE kits and their duty hours, due to pressure of work, stretched beyond bearable limits. We will have to explore ways and means to train extra hands immediately to meet the shortfall of hands.

India has 1.7 nurses per 1,000 population, 43% less than the World Health Organization norm of (3 per 1,000). This includes nurses, midwives, women health visitors, and auxiliary nurse midwives. Overall, India has 3.07 million registered nursing personnel. This information was shared with the parliament by the government just before the lockdown in the country. (war)

The most significant aspect of the whole strategy .besides number games should be key thrust on measures aimed at boosting the morale of these front line warriors. The morale should be boosted with wartime like incentives and enthusiasm to face the challenge with full war type spirit.


(Shubhang Arora is Executive Director, Yashoda Group of Hospitals)

https://newsabode.com/war/



हर साल 25 जून को विश्व विटिलिगो दिवस (World Vitiligo Day) मनाया जाता है। विटिलिगो (Vitiligo) एक प्रकार का त्वचा रोग (skin disease) है। दुनिया भर की लगभग 0.5 प्रतिशत से एक प्रतिशत आबादी विटिलिगो से प्रभावित हैलेकिन भारत में इससे प्रभावित लोगों की आबादी लगभग 8.8 प्रतिशत तक दर्ज किया गया है।

देश में इस बीमारी को समाज में कलंक के रूप में भी देखा जाता है। विटिलिगो किसी भी उम्र में शुरू हो सकता हैलेकिन विटिलिगो के आधा से ज्यादा मामलों में यह 20 साल की उम्र से पहले ही विकसित हो जाता हैवहीं 95 प्रतिशत मामलों में 40 वर्ष से पहले ही विकसित होता है।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटलकौशाम्बी के त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ. सिद्धार्थ टंडन बताते हैं कि विटिलिगो एक प्रकार का त्वचा विकार (skin disorder) हैजिसे सामान्यत: ल्यूकोडर्मा के नाम से जाना जाता है। इसमें आपके शरीर की स्वस्थ कोशिकाएं प्रभावित होती हैं। इस बीमारी का क्रम बेहद परिवर्तनीय है। कुछ रोगियों में घाव स्थिर रहता हैबहुत ही धीरे-धीरे बढ़ता हैजबकि कुछ मामलों में यह रोग बहुत ही तेजी से बढ़ता है और कुछ ही महीनों में पूरे शरीर को ढक लेता है। वहीं, कुछ मामलों में त्वचा के रंग में खुद ब खुद पुनर्निर्माण भी देखा गया है। इतना ही नहीं मरीज का परिवार भी समाज की भ्रांतियों में पड़कर परेशान होता है। बता दें कि सफेद दाग की बीमारी को लेकर लंबे समय से एक लड़ाई चल रही है। भारतीय सैन्य सेवाओं से लेकर कई तरह की सरकारी नौकरी में भी सफेद दाग की वजह से मौका नहीं मिल पाता।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटलकौशाम्बी के त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ कुलदीप शर्मा जब आपके शरीर में मेलेनोसाइट्स (melanocyteमरने लगते हैंतब इससे आपकी त्वचा पर कई सफेद धब्बे (White spots) बनने शुरू होते हैं। इस स्थिति को सफेद कुष्ठ रोग (leprosy) भी कहा जाता है। यह आमतौर पर शरीर के उन हिस्सों जो कि सूरज की रोशनी के सीधे संपर्क में आते हैंचेहरेहाथों और कलाई के क्षेत्र इससे ज्यादा प्रभावित होते है। डॉ कुलदीप बताते हैं कि विटिलिगो के होने का सटीक कारण को अभी तक पहचाना नहीं जा सका हैहालांकि यह आनुवांशिक एवं पर्यावरणीय कारकों के संयोजन का परिणाम प्रतीत होता है। कुछ लोगों ने सनबर्न या भावनात्मक तनाव जैसे कारकों को भी इसके लिए जिम्मेवार बताया है। आनुवंशिकता विटिलिगो का एक महत्वपूर्ण कारण हो सकता हैक्योंकि कुछ परिवारों में विटिलिगो को बढ़ते हुये देखा गया है।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटलकौशाम्बी की त्वचा रोग विशेषज्ञ  डॉ गरिमा गुप्ता की अनुसार सफेद दाग की बीमारी छुआछूत की बीमारी नही हैइसके प्रति समाज में फ़ैली भ्रांतियों को दूर करने की आवश्यकता है। इतना ही नहीं मरीज का परिवार भी समाज की भ्रांतियों में पड़कर परेशान होता है।  बता दें कि सफेद दाग की बीमारी को लेकर लंबे समय से एक लड़ाई चल रही है। भारतीय सैन्य सेवाओं से लेकर कई तरह की सरकारी नौकरी में भी सफेद दाग की वजह से मौका नहीं मिल पाता। अगर हम एकजुट होकर इस बीमारी से लड़ेंगे तो इस रोग को जड़ से ख़त्म कर सकते हैं । उन्होंने बताया कि विटिलिगो के इलाज के लिएटोपिकलविभिन्न सर्जरीलेजर चिकित्सा एवं अन्य वैकल्पिक उपचार उपलब्ध हैं।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटलकौशाम्बी के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ पी एन अरोड़ा ने कहा कि विटिलिगो बीमारी की बारे में एक मिथक या लोगों में एक भ्रम है कि यह छूने से फैलता है। जबकि ऐसा नहीं होता है। इसलिए विटिलिगों को पीडि़तों  के साथ सामान्य व्यवहार कर उनके जीवन में उमंग भरना चाहिए। सामाज में अछूत की नजर से देखे जाने के कारण अक्सर सफेद दाग के पीड़ितों में हीन भावना और मानसिक अवसाद (Mental depression) घर कर लेता है। ऐसे में लोगों को इस बीमारी के बारे में जागरूक होना बहुत जरूरी है।



गाजियाबाद 25 जून 2019 : विटिलिगो (Vitiligo) एक प्रकार का त्वचा रोग (skin disease) है। दुनिया भर की लगभग 0.5 प्रतिशत से एक प्रतिशत आबादी विटिलिगो से प्रभावित है, लेकिन भारत में इससे प्रभावित लोगों की आबादी (Population) लगभग 8.8 प्रतिशत तक दर्ज किया गया है। देश में इस बीमारी को समाज में कलंक के रूप में भी देखा जाता है। विटिलिगो किसी भी उम्र में शुरू हो सकता है, लेकिन विटिलिगो के आधा से ज्यादा मामलों में यह 20 साल की उम्र से पहले ही विकसित हो जाता है, वहीं 95 प्रतिशत मामलों में 40 वर्ष से पहले ही विकसित होता है।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी के त्वचा रोग विशेषज्ञ (Dermatologist in Delhi/NCR) डॉ सिद्धार्थ टंडन बताते हैं कि विटिलिगो एक प्रकार का त्वचा विकार (skin disorder) है, जिसे सामान्यत: ल्यूकोडर्मा (Leucoderma) के नाम से जाना जाता है। इसमें आपके शरीर की स्वस्थ कोशिकाएं प्रभावित होती हैं। इस बीमारी का क्रम बेहद परिवर्तनीय है। कुछ रोगियों में घाव स्थिर रहता है, बहुत ही धीरे-धीरे बढ़ता है, जबकि कुछ मामलों में यह रोग बहुत ही तेजी से बढ़ता है और कुछ ही महीनों में पूरे शरीर को ढक लेता है। वही कुछ मामलों में, त्वचा के रंग में खुद ब खुद पुनर्निर्माण भी देखा गया है। इतना ही नहीं मरीज का परिवार भी समाज की भ्रांतियों में पड़कर परेशान होता है।

उन्होंने कहा कि सफेद दाग की बीमारी को लेकर लंबे समय से एक लड़ाई चल रही है। भारतीय सैन्य सेवाओं से लेकर कई तरह की सरकारी नौकरी में भी सफेद दाग की वजह से मौका नहीं मिल पाता।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी के त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ कुलदीप शर्मा जब आपके शरीर में मेलेनोसाइट्स (Melanocytes) मरने लगते हैं, तब इससे आपकी त्वचा पर कई सफेद धब्बे (White spots) बनने शुरू होते हैं। इस स्थिति को सफेद कुष्ठ रोग (leprosy) भी कहा जाता है। यह आमतौर पर शरीर के उन हिस्सों जो कि सूरज की रोशनी के सीधे संपर्क में आते हैं, चेहरे, हाथों और कलाई के क्षेत्र इससे ज्यादा प्रभावित होते है।

डॉ. कुलदीप बताते हैं कि विटिलिगो के होने का सटीक कारण को अभी तक पहचाना नहीं जा सका है, हालांकि यह आनुवांशिक (Genetic) एवं पर्यावरणीय (Environmental) कारकों के संयोजन का परिणाम प्रतीत होता है। कुछ लोगों ने सनबर्न या भावनात्मक तनाव जैसे कारकों को भी इसके लिए जिम्मेवार बताया है। आनुवंशिकता विटिलिगो का एक महत्वपूर्ण कारण हो सकता है, क्योंकि कुछ परिवारों में विटिलिगो को बढ़ते हुये देखा गया है।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी की त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ गरिमा गुप्ता की अनुसार सफेद दाग की बीमारी छुआछूत की बीमारी नही है, इसके प्रति समाज में फ़ैली भ्रांतियों को दूर करने की आवश्यकता है। इतना ही नहीं मरीज का परिवार भी समाज की भ्रांतियों में पड़कर परेशान होता है।

उन्होंने कहा कि सफेद दाग की बीमारी को लेकर लंबे समय से एक लड़ाई चल रही है। भारतीय सैन्य सेवाओं से लेकर कई तरह की सरकारी नौकरी में भी सफेद दाग की वजह से मौका नहीं मिल पाता। अगर हम एकजुट होकर इस बीमारी से लड़ेंगे तो इस रोग को जड़ से ख़त्म कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि विटिलिगो के इलाज के लिए, टोपिकल, विभिन्न सर्जरी, लेजर चिकित्सा एवं अन्य वैकल्पिक उपचार (Alternative treatment) उपलब्ध हैं।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. पी. एन. अरोड़ा ने कहा कि विटिलिगो बीमारी की बारे में एक मिथक या लोगों में एक भ्रम है कि यह छूने से फैलता है। जबकि ऐसा नहीं होता है। इसलिए विटिलिगों को पीडि़तों के साथ सामान्य व्यवहार कर उनके जीवन में उमंग भरना चाहिए। समाज में अछूत की नजर से देखे जाने के कारण अक्सर सफेद दाग के पीड़ितों में हीन भावना औऱ मानसिक अवसाद (Mental depression) घर कर लेता है। ऐसे में लोगों को इस बीमारी के बारे में जागरूक होना बहुत जरूरी है।


hindustan-on-line.jpg

हिन्दुस्तान टीम,गाज़ियाबाद
Last updated: Sun, 03 Feb 2019 07:07 PM IST
ट्रांस हिंडन। कौशांबी स्थित यशोदा अस्पताल में कैंसर के प्रति जागरूक करने के लिए रविवार को कार्यक्रम का आयोजन किया गया। विशेषज्ञ डॉक्टरों ने कैंसर के संबंध में जानकारी देते हुए जागरूक किया। अस्पताल के प्रबंध निदेशक डॉ. पीएन अरोड़ा ने बताया कि कैंसर के खिलाफ लड़ाई में एकजुट करने के लिए प्रति वर्ष 4 फरवरी को मनाया जाता है। प्रतिवर्ष विश्वभर में 8.8 मिलियन लोगों की मृत्यु कैंसर से होती है। अस्पताल के वरिष्ठ कैंसर रोग सर्जन डॉ. जलज बक्शी ने बताया कि कैंसर कई कारक वाला रोग है। तंबाकू और एल्कोहल का सेवन, अस्वास्थ्यकर आहार एवं शारीरिक निष्क्रियता, दूषित आहार एवं दूषित पेयजल कैंसर के प्रमुख जोखिम के कारक हैं। वरिष्ठ कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. सुमंत गुप्ता ने बताया कि हर साल 14 लाख नए कैंसर के मामले सामने आते हैं। 40 फीसदी कैंसर सिर्फ तंबाकू के सेवन से होता है। युवाओं में बढ़ती धुम्रपान की लत कैंसर को बढ़ावा दे रहा है।

Amar ujala_cancer
cancer_Navoday
HH_camp
hh_cancer
hindustan on line
jagran_dr jalaj

au_pain_dr neeraj
dj_pain_dr neeraj
navoday times_pain_dr neeraj
pain_hh_dr neeraj

गाजियाबाद। कौशाम्बी स्थित यशोदा सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल में एक निःशुल्क पेन मैनेजमेंट कैंप लगाया गया। कैंप का उद्घाटन यशोदा हॉस्पिटल के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. पीएन अरोड़ा ने किया। कैंप में कौशाम्बी, वैशाली, वसुंधरा, इंदिरापुरम, साहिबाबाद एवं ईस्ट दिल्ली के निवासियों ने निःशुल्क पेन मैनेजमेंट परामर्श की सुविधा का लाभ उठाय। यशोदा सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी के वरिष्ठ पेन मैनेजमेंट विशेषज्ञ डॉ. सुनील कुमार शर्मा एवं डॉ. सुदेश प्रकाश ने मरीजों को परामर्श दिया। डॉ सुनील शर्मा ने बताया कि पुराने दर्द का इलाज अब बिना ऑपरेशन यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी में उपलब्ध करा दिया गया है। कैंप में कमर के दर्द, स्लिप डिस्क, गर्दन के दर्द, जोड़ांे के दर्द , माइग्रेन सर के दर्द, साइटिका, कैंसर की बीमारी की वजह से दर्द के एवं अन्य प्रकार के पुराने दर्द के मरीजों को निःशुल्क परामर्श दिया गया। कैम्प में 100 से अधिक लोग शामिल हुए।

Posted on : September 10, 2018 


Quality Policy

Yashoda Super Specialty Hospital is a tertiary care hospital with focus on providing world class and holistic healthcare services with excellence in multi specialties to treat patients with respect, compassion, dignity and ensuring their safety by complying with all legal requirements & significant environmental aspects to maintain adherence with NABH standards through continuous quality improvement.


Kidney Transplant Donor's Information

Accreditations

Copyright by Yashoda Super Speciality Hospital. All rights reserved.